पूर्णांकों का जोड़, घटा, गुणा और भाग - Future Study Point

पूर्णांकों का जोड़, घटा, गुणा और भाग

पूर्णांकों का जोड़, घटा, गुणा और भाग

पूर्णांकों का जोड़, घटा, गुणा और भाग

बुनियादी गणित की अवधारणाओं को समझें: यदि आप पूर्णांकों के जोड़, घटा, गुणा, और भाग की अवधारणा को स्पष्ट करने में असमर्थ हैं, तो आप गणित को यहाँ से समझना से शुरू कर सकते हैं विशेष रूप से यह कक्षा 5 वीं से 6 वीं में जाने वाले छात्रों के लिए महत्वपूर्ण है। निश्चित रूप से! पूर्णांकों के बीच जोड़, घटा, गुणा और भाग कैसे होते हैं, इसका संक्षिप्त विवरण यहां दिया गया है:

पूर्णांकों का जोड़, घटा, गुणा और भाग

पूर्णांकों का योग:
जब आप एक ही प्रकार के चिह्ननो (दोनों धनात्मक या दोनों ऋणात्मक) वाले दो पूर्णांकों को जोड़ते हैं, तो आप बस उनके परिमाणो को जोड़ते हैं और उभयनिष्ठ चिह्न रखते हैं। उदाहरण के लिए:

(+10) + (+3) =10+3 =13
(-10) + (-3) =-10-3= -13
जब आप अलग-अलग चिह्नों वाले दो पूर्णांकों को जोड़ते हैं, तो आप इसे बड़ी संख्या में से छोटी संख्या घटाकर घटा के रूप में सोच सकते हैं। बड़ी संख्या के परिमाण से छोटी संख्या के परिमाण को घटाएँ और फिर परिणाम स्वरूप प्राप्त संख्या में बड़े परिमाण वाली संख्या का चिह्न रखें। उदाहरण के लिए:

(+10) + (-3) = +10-3=+7(+ परिणामी संख्या का चिह्न इसलिए है क्योंकि 10, 3 से बड़ा है)
(-10) + (+3) = -7(- परिणामी संख्या का चिह्न इसलिए है क्योंकि 10, 3 से बड़ा है)
पूर्णांकों का घटा:
पूर्णांकों को घटाने को जोड़ने की ही प्रक्रिया के रूप में सोचा जा सकता है। किसी पूर्णांक को किसी अन्य पूर्णांक से घटाना वास्तव में उस संख्या को किसी अन्य संख्या के योगात्मक व्युत्क्रम में जोड़ना है, उदाहरण के लिए:

(+15) – (+3) = +12 और (+15) + (-3) = +12 के समान है
(-15) – (-3) = -12और (-15) + (+3) = -12 के समान है

विद्यार्थियों को पूर्णांकों का योग ज्ञात करने के लिए यह सोचना आवश्यक है कि

1-समान चिह्न वाले पूर्णांकों को सदैव जोड़ना चाहिए और परिणामी संख्या का चिह्न दोनो पूर्णांकों का उभयनिष्ठ चिह्न होगा।

उदाहरण: (+9) +(+7)= +16

(-9) +(-7)= -16

2-विपरीत चिह्न वाले पूर्णांकों को हमेशा घटाना चाहिए और परिणामी संख्या का चिह्न बड़ी संख्या का चिह्न होगा।

उदाहरण: (+8) +(-7)=8-7= 1

(-8) +(+7)= -8+7=-1

(-8) – (-7)= -8 +7 =-1[अर्थात: – (-) = – × – = + और -(+) या +(-)=-]
पूर्णांकों का गुणन:
जब आप दो पूर्णांकों को गुणा करते हैं, तो गुणनफल का चिह्न संख्याओं के चिह्नों पर निर्भर करता है। यदि दोनों संख्याओं का चिह्न समान है (या तो दोनों धनात्मक या दोनों ऋणात्मक), तो उनका गुणनफल धनात्मक होगा। यदि संख्याओं के अलग-अलग संकेत हैं, तो गुणनफल ऋणात्मक होगा। उदाहरण के लिए:

(+5) × (+3) = +15
(-5) ×(-3) = +15
(+5) × (-3) = -15
(-5) × (+3) = -15
पूर्णांकों का विभाजन:

पूर्णांकों का विभाजन गुणा के समान है, और भागफल का चिह्न भाज्य और भाजक के चिह्नों पर निर्भर करता है। यदि भाज्य और भाजक दोनों का चिह्न एक ही हो तो भागफल धनात्मक होता है। यदि उनके अलग-अलग संकेत हैं, तो भागफल ऋणात्मक होगा। उदाहरण के लिए:

(+10) / (+2) = +5
(-10) / (-2) = +5
(+10) / (-2) = -5
(-10) / (+2) = -5
याद रखें कि शून्य से भाग करते समय सावधान रहें, क्योंकि गणित में शून्य से भाग अपरिभाषित है।

गणित और अंकगणित में पूर्णांकों के साथ काम करते समय ये नियम मौलिक हैं।

कक्षा 5 से कक्षा 6 तक जाने वाले छात्रों के सामने आने वाली चुनौतियों के बारे में सुनना चिंताजनक है, खासकर गणित शिक्षा के संदर्भ में। दरअसल, गणित में एक मजबूत नींव छात्रों के संज्ञानात्मक विकास और विभिन्न विषयों में जटिल अवधारणाओं को समझने की उनकी क्षमता के लिए महत्वपूर्ण है। ऐसा लगता है कि अंतर को पाटने और छात्रों के लिए एक सुचारु परिवर्तन सुनिश्चित करने के लिए नवीन शिक्षण विधियों की महत्वपूर्ण आवश्यकता है।

इस समस्या के समाधान के लिए, शिक्षक निम्नलिखित रणनीतियों को लागू करने पर विचार कर सकते हैं:

इंटरएक्टिव लर्निंग: छात्रों को विषय में व्यस्त रखने और रुचि बनाए रखने के लिए समूह गतिविधियों, शैक्षिक खेलों और गणितीय अवधारणाओं के व्यावहारिक अनुप्रयोगों जैसे इंटरैक्टिव शिक्षण विधियों का उपयोग करें।

व्यक्तिगत ध्यान: संघर्ष कर रहे छात्रों पर व्यक्तिगत ध्यान दें, उनकी विशिष्ट चुनौतियों की पहचान करें और तदनुसार शिक्षण विधियों को तैयार करें। इसमें उनकी समझ को बढ़ाने के लिए अतिरिक्त शिक्षण, मार्गदर्शन या अतिरिक्त संसाधन प्रदान करना शामिल हो सकता है।

तकनीक का प्रयोग: शैक्षिक तकनीकी उपकरण और सॉफ़्टवेयर का प्रयोग करें जो गणित सीखने को अधिक इंटरैक्टिव और मनोरंजक बना सकते हैं। इसमें जटिल अवधारणाओं को सरल तरीके से प्रदर्शित करने के लिए शैक्षिक ऐप्स, ऑनलाइन ट्यूटोरियल या संवादात्मक अनुकरणो को शामिल कर सकते हैं।

विवेचनात्मक सोच को प्रोत्साहित करना: एक कक्षा के माहौल को सुन्दर बनाने के लिए विवेचनात्मक सोच और समस्या-समाधान के कौशल को प्रोत्साहित करना जरूरी है। छात्रों को वास्तविक जीवन के परिदृश्य प्रस्तुत करें जहां वे गणितीय अवधारणाओं को इस्तमाल कर सकें, तार्किक और विश्लेषणात्मक रूप से सोचने की उनकी क्षमता को बढ़ावा दें।

नियमित मूल्यांकन: छात्रों की प्रगति की निगरानी करने और मौलिक अवधारणाओं की उनकी समझ में किसी भी अंतराल की पहचान करने के लिए नियमित मूल्यांकन का प्रयोग करें। इससे जरूरत पड़ने पर समय पर हस्तक्षेप और अतिरिक्त सहायता प्रदान करने में मदद मिल सकती है।

शिक्षकों के लिए व्यावसायिक विकास: शिक्षकों को गणित शिक्षा के क्षेत्र में नवीनतम शिक्षण पद्धतियों और संसाधनों से अद्यतन रखने के लिए निरंतर व्यावसायिक विकास के अवसर प्रदान करें।

यह समझना महत्वपूर्ण है कि प्रत्येक छात्र की सीखने की शैली और गति अलग-अलग होती है। इन रणनीतियों को शामिल करके, शिक्षक एक सहायक और आकर्षक सीखने का माहौल बना सकते हैं, जिससे छात्रों को गणित में एक मजबूत नींव बनाने में मदद मिलेगी और उनके समग्र शैक्षणिक विकास को बढ़ावा मिलेगा।

आप निम्नलिखित का भी अध्ययन कर सकते हैं

विद्युत प्रतिरोध क्या है?What is Electrical resistance?

धातुओं की सक्रियता श्रेणी क्या है इसके उपयोग बताइए?

आसमान में बिजली और गड़गड़ाहट का कारण क्या है?

विद्युत विभवांतर क्या है?What is Electric Potential Difference?

ओजोन परत का क्षय कैसे हो रहा है?

विस्थापन और द्विविस्थापन अभिक्रियाएँ

प्रकाश का वर्ण विक्षेपण और प्रकीर्णन क्या हैं?What is dispersion and scattering of light?

प्रकाश का परावर्तन और अपवर्तन क्या है?

विद्युत धारा का तापीय प्रभाव क्या होता है?

आयनिक (ionic)और सहसंयोजी(covalent) यौगिकों के बीच अंतर

संक्षारण(corrosion) और विकृतगंधिता(rancidity) क्या है ?

एक पारितंत्र में खाद्य श्रृंखला और खाद्य जाल

गर्मियों में मिट्टी के घड़े में रखा पानी ठंडा कैसे हो जाता है?

कोशिका(Cell) की संरचना और कार्य: Cell Biology

संगलन की गुप्त ऊष्मा और वाष्पीकरण की गुप्त ऊष्मा क्या होती है?

आण्विक द्रव्यमान,मोलर द्रव्यमान और मोल संकल्पना

वाष्पन(Evaporation) की प्रक्रिया को प्रभावित करने वाले कारक कौन से हैं?

द्रव्यमान और भार में क्या अंतर है

CBSE बोर्ड और  Entrance Exams के लिए कक्षा 9 और 10 के important science Notes

दूरी (Distance)और विस्थापन(Displacement) में क्या अंतर है

न्यूटन के गति के तीन नियम

चिकनी अंतर्दव्यी जालिका(SER) और खुरदुरीअंतर्दव्यी जालिका(RER) के बीच अंतर

माइटोकॉन्ड्रिया (Mitochondria)के कार्य एवं संरचना

जड़त्व क्या है?इसके प्रकार और उदाहरण

विलयन, कोलाइड और निलम्बन के बीच अंतर

चाल और वेग में क्या अंतर है?

संवेग: परिभाषा, मात्रक, सूत्र और वास्तविक जीवन में उपयोग: कक्षा 9 सीबीएसई

परमाणु और अणु में क्या अंतर है?

प्रोकैरियोटिक कोशिका और यूकेरियोटिक कोशिका में क्या अंतर है?

डीएनए प्रतिलिपीकरण का महत्व और जीवों में विविधता।

गुणशूत्र, डीएनए और जीन क्या होते हैं?

कार्य, ऊर्जा और शक्ति परिभाषा, शूत्र,मात्रक उदाहरण सहितः कक्षा 9 सीबीएसई

ग्रीनहाउस प्रभाव क्या है?

तरंगदैर्घ्य क्या है?

परमाणु और आयन के बीच अंतर: कक्षा 9 सीबीएसई साइंस

गतिजऔर स्थतिज ऊर्जा के बीच अंतर और उनके सूत्रों का सत्यापन

जन्तु कोशिका और पादप कोशिका में अंतर

कोशिका में प्लाज्मा झिल्ली का क्या काम होता है?

हमारे शरीर का अन्तःस्रावी तन्त्र

 

Scroll to Top